उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक आयोग

 

सूचना का अधिकार अधिनियम 2005  की धारा-4 (1) (बी) में उल्लिखित 17 बिन्दुओं का विवरण
निम्नवत है:-

(बी) (1)
वसीका कार्यालय, लखनऊ का गठन मुख्यत: अवध के भूतपूर्व शासकों द्वारा जो धनराशि जागीर, महल, आभूषण, सोना चाँदी आदि ब्रिटिश शासन ने ईस्ट इण्डिया कम्पनी के माध्यम से ऋण स्वरूप अनुबनघ पत्र के आधार पर प्राप्त किया था जिस पर अनुबन्ध पत्र के अनुसार मूलधन पर जो ब्याज अर्जित होगा मात्र उसे अवध के शासकों द्वारा इंगित परिवार के व्यक्तियों तथा उनके सेवा में लगे व्यक्तियों तथा उनकी मृत्योपरान्त उनकी सन्तानों पर मासिक वितरण करता है, उसे वसीका कहते हैं। वसीका एक अरबी शब्द है जिसका अर्थ है लिखित इकरारनामा (अनुबंन्ध पत्र) बांड, उत्तरदायित्व अनुबंन्ध के अनुसार मूलधन कभी वापस नही होगा 1857 के गदर के बाद ऐक्चिसेन्स टी० टी० (संधि) का गठन हुआ, तब से 4 प्रतिशत से 6 प्रतिशत के मध्य मूलधन पर अर्जित ब्याज का भुगतान नवाबों के परिवार तथा उनके परिवार की सेवा में लगे व्यक्तियों पर वसीका स्वरूप मासिक भुगतान वसीका कार्यालय द्वारा किया जाता है।

वसीका कार्यालय, लखनऊ का कार्यालय के रूप में गठन वर्ष 1877 में हुआ तब से यह एक अनुभाग के रूप में संचालित है। वसीका कार्यालय लखनऊ का नियंत्रण पूर्व में भारत सरकार गृहमंत्रालय, नई दिल्ली द्वारा किया जाता था तथा 1-4-1957 से उत्तर प्रदेश शासन के सामान्य प्रशासन अनुभाग के द्वारा किया जाता था तथा वर्तमान समय में यह अल्पसंख्यक कल्याण एवं वक्फ द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

इस समय वसीका कार्यालय द्वारा निम्न कार्य निस्तारण किया जाता है:-

  1. 8 प्रकार के वसीकों का भुगतान किया जाता है वर्तमान समय में वसीकादारों की कुल संख्या लगभग 1300 है।

  2. 13- प्रकार के अमानती ब्याज का भुगतान किया जाता है वर्तमान समय में लाभकारियों की संख्या लगभग 561 है।

  3. वसीका/ अमानती नोट प्राप्तकर्ता द्वारा दिये गये प्राधिकार पत्र को प्राप्त कर उचित कार्यवाही करना।

  4. वसीका/ अमानती नोट प्राप्तकर्ता के मृत्योपरान्त दावे का निस्तारण उत्तराधिकारियों के मध्य किया जाता है।

  5. 11 प्रकार की राजनैतिक पेंश्नों का निस्तारण किया जाना।

  6. काला इमामबाड़ा/ मिर्जा अली खाँ के मकबरे का नियंत्रण।

  7. छात्रवृत्ति का भुगतान।

  8. वसीका कार्यालय लखनऊ के कर्मचारियों के कार्य विभाजन का कार्य तथा अभिलेखों के रख रखाव हेतु वसीका कार्यालय लखनऊ के अन्तर्गत सृजित पदों का विवरण वेतन मान सहित।

  9. 8 प्रकार के वसीकें के भुगतान का विवरण

  10.  अमानत वसीका :-
    अमानत वसीका के अन्तर्गत जो ब्याज की धनराशि प्राप्त होती है पूर्व में 5 प्रतिशत की दर से मूलधन पर लगभग 27248.00 होती थी परन्तु उसमें से बहुत से वसीकों के संराशिकरण हो जाने के कारण शासन को समर्पित हो जाने पर वर्तमान में अवशेष वसीका मात्र 5414.10 प्रतिमास रह गया है। अमानत वसीका पर प्राप्त ब्याज की धनराशि गारेण्टीड है जो चन्द्र दर्शन के (लूनर-मन्थ) के अनुसार दी जाती है। फलत: हर तीसरे वर्ष एक माह बढ जाने के कारण दो माह का भुगतान एक साथ किया जाता है। अमानत वसीका के अन्तर्गत जो भुगतान किया जाता है उसके लेखा का दिन प्रतिदिन हिसाब रखा जाता है।

  11. जमानत वसीका:-
    जमानत वसीका के अन्तर्गत जो वसीका नवाबों के परिवार व उनकी सेवा में लगे व्यक्तियों तथा उसकी मृत्योपरान्त उनकी संतानों पर वितरित किया जाता है उस ब्याज की धनराशि पूर्व में 16885.05 प्रतिमास थी अब कुछ वसीकादारों के वसीकें का संराशिकरण हो जाने के कारण तथा पाकिस्तानियों को ब्याज न भुगतान करने के कारण उनका वसीका शासन को समर्पित हो जाने से वर्तमान में यह ब्याज मात्र अवशेष धनराशि रू० 2121.85 प्रतिमास रह गयी है अवशेष धनराशि के भुगतान सम्बन्धी खाते दिन प्रतिदिन का ब्यौरा वसीका कार्यालय के कर्मचारियों द्वारा रखा जाता है।
    अमानत जमानत वसीका भुगतान किये जाने हेतु उत्तर प्रदेश शासन द्वारा मुख्य लेखा शीर्षक 2075  विविध सामान्य सेवाएं, 800 अन्य व्यय, 04 अवध वसीका पेंशन 33- पेंशन/ अनुतोशिक के अन्तर्गत प्रति वर्ष आवश्यकतानुसार बजट का प्राविधान प्रति वर्ष कराया जाता है वित्तीय वर्ष 2006-2007 में अवध वसीका पेंशन भुगतान हेतु रू० 125000.00 का बजट प्राविधान है भुगतान के पश्चात अवशेष धनराशि वित्तीय वर्ष समाप्त होने पर शासन को समर्पित कर दी जाती है।

  1. मिर्जा अली खाँ का महल वसीका
    मिर्जा अली खाँ का महल वसीका के अन्तर्गत विनियोजित धनराशि पर पूर्व में रू० 4173.47 वितरित किये जाते थे परन्तु इनमें से कुछ वसीका का संराशिकरण होने के कारण तथा पाकिस्तानियों को वसीका भुगतान न किये जाने के कारण उनके वसीके शासन को समर्पित हो जाने से वर्तमान समय में अवशेष ब्याज धनराशि 410.10 मात्र नवाबों के परिवार के सदस्यों तथा उनकी सेवा में लगे व्यक्तियों तथा उनकी मृत्योपरान्त उनकी संतानों में वितरित किया जा रहा है।

  2. सालारजग महल वसीका
    सालारजग महल वसीका के अन्तर्गत विनियोजित धनराशि पर पूर्व में रू० 2554.30 पैसे वितरित किये जाते थे परन्तु इनमें से कुछ वसीकों का संराशिकरण हो जाने के कारण तथा पाकिस्तानियों को वसीका भुगतान न किये जाने के फलस्वरूप शासन को समर्पित हो जाने से वर्तमान समय में अवशेष ब्याज धनराशि रू० 345.35  पैसे प्रति नवाबों के परिवार के सदस्यों तथा उनकी सेवा में लगे व्यक्तियों तथा उनकी मृत्योपरान्त उनकी संतानों में वितरित किये जा रहे हैं।

  3. कासिम अली का महल
    कासिम अली का महल वसीका के अन्तर्गत धनराशि पूर्व में रूपया 3399.00 वितरित किये जाते थे परन्तु इनमें से कुछ वसीकों का सरांशिकरण हो जाने तथा पाकिस्तानियों का वसीका न भुगतान किये जाने के कारण शसन को समर्पित हो जाने से वर्तमान समय में अवशेष ब्याज धनराशि रू० 337.15 मात्र ही नवाबों के परिवार के सदस्यों तथा उनकी सेवा में लगे व्यक्तियों तथा उनकी मृत्योपरान्त उनकी संतानों में किया जा रहा है।

  4. प्रथम अवध ऋण
    प्रथम अवध ऋण वसीका के अन्तर्गत विनियोजित धनराशि पर पूर्व में रू० 7833.19 पैसे प्रतिमास वितरित किया जाता था परन्तु इसमें से कुछ वसीकों का संराशिकरण हो जाने के कारण तथा पाकिस्तानियों को वसीका न भुगतान किये जाने के कारण शासन को समर्पित हो जाने से वर्तमान समय में अवशेष ब्याज धनाराशि रू० 1400.35 पैसे मात्र ही नवाबों के परिवार के सदस्यों तथा उनकी सेवा लगे व्यक्तियों तथा उनकी मृत्योपरान्त उनकी संतानों में प्रतिमास वितरित किया जा रहा है।

  5. तृतीय अवध वसीका ऋण :-
    तृतीय अवध ऋण वसीका के अन्तर्गत विनियोजित धनराशि पर पूर्व में रू० 41666-67 पैसे प्रतिमास वितरित किये जाते थे परन्तु इनमें से कुछ वसीकों को संराशिकरण हो जाने तथा पाकिस्तानियों को वसीका न भुगतान किये जाने के कारण शासन को समर्पित हो जाने से वर्तमान समय में अवशेष ब्याज धनराशि 11704.22 पैसे मात्र ही प्रतिमास नवाबों के परिवार के सदस्यों तथा उनकी सेवा में लगे व्यक्तियों तथा मृत्योपरान्त उनकी संतानों में प्रतिमास वितरित किया जा रहा है।

  6. षष्ट अवध ऋण:-
    षष्ट अवध ऋण वसीका के अन्तर्गत विनियोजित धनराशि पर पूर्व में रू० 5666.67 पैसे मात्र प्रतिमास वितरित किये जाते थे परन्तु इनमें से कुछ वसीकों का संराशिकरण हो जाने के कारण तथा पाकिस्तानियों को वसीका न भुगतान किये जाने के फलस्वरूप शासन को समर्पित हो जाने से वर्तमान समय में अवशेष धनराशि 1256.29 पैसे मात्र ही नवाबों के परिवार के सदस्यों तथा उनकी सेवा में लगे व्यक्तियों तथा उनकी मृत्योपरान्त उनकी संतानों में प्रतिमास वितरित किया जा रहा है।
    यह वसीका पेंशन/ ब्याज अर्थात तीन महल व तीन लोन के वसीका प्राप्तकर्ताओं को प्रतिमास भुगतान हेतु उत्तर प्रदेश शासन द्वारा मुख्य लेखा शीर्षक 2049 ब्याज अदायगियाँ, 03 अल्प बचतों, भविष्य निधियों आदि पर ब्याज, 107 न्यासो तथा धर्मादाओं पर ब्याज, 03 विशेष ऋण पर ब्याज, 32 ब्याज/लाभांश: (भारित) के अन्तर्गत प्रति वर्ष आवश्यकतानुसार शासन से बजट प्राविधान कराया जाता है। वित्तीय वर्ष 2006-07 हेतु रू० 205000.00 का बजट प्राविधान किया गया है।

वसीकादारों की संख्या एवं उनको प्राप्त धनराशि

1. रू० 1.00 से 10.00 तक प्रतिमास प्राप्त करने वाले 710 वसीकादार है।
2. रू० 11.00 से 50.00 तक प्रतिमास प्राप्त करने वाले 367 वसीकादार है।
3. रू० 51.00 से 100.00 तक प्रतिमास प्राप्त करने वाले 201 वसीकादार है।
4. रू० 101.00 से 400.00 तक प्रतिमास प्राप्त करने वाले 20 वसीकादार है।
5. रू० 401.00 से 800.00 तक प्रतिमास प्राप्त करने वाले 2 वसीकादार है।

वर्तमान समय में कुल वसीका धारकों  की संख्या लगभग 1300 है।

  1. 13 प्रकार के अमानती नोट ब्याज का भुगतान:-
     

    1. मलका जहाँ अमानती नोट मूल धनराशि रू० 1200000.00
    2. मलका किश्वर तदैव रू० 500000.00
    3. मिर्जा जव्वाद अली तदैव रू० 120000.00
    4. मलका गेती तदैव रू० 240000.00
    5. ताजदार बहू तदैव रू० 60000.00
    6. मलका अहद प्रथम तदैव रू० 280000.00
    7. मलका अहद द्वितीय तदैव रू० 100000.00
    8. अफसर बहू तदैव रू० 60000.00
    9. अमीनुद्दौला तदैव रू० 120000.00
    10. मोईनुद्दौला तदैव रू० 72000.00
    11. बच्चू बेगम तदैव रू० 24000.00
    12. मोहम्मद मीर दरोगा तदैव रू० 12000.00
    13. हुसैन अली खाँ छैला तदैव रू० 12000.00
        रूपया रू० 3000000.00

पूर्व में अमानती नोट का मूलधन 30 लाख पब्लिक डेट आफिस कलकत्ता प्रोमेजरी नोट के रूप में जमा था बाद मं यह धनराशि पब्लिक डेट आफिस रिजर्व बैंक कानपुर को हस्तांतरित कर दी गयी थी पूर्व में रिजर्व बैंक कानपुर से 3.50 प्रतिशत की दर से 30 लाख पर य० 6571.28 ब्याज की वार्षिक धनराशि रू० 78855.36 होती थी। दिनांक 1.1.1986 से मूल धनराशि रू० 2602000.00 को पुन: 11.50 प्रतिशत की दरसे विनियोजित किया गया जिस पर रिजर्व बैंक कानपुर से रू० 24936.00 प्रतिमास भुगतानादेश प्राप्त हो रहा है (वार्षिक रू० 299232.00 प्राप्त होता है) मूलधन 30 लाख तथा अब विनियोजित धनराशि रू० 2602000.00 के अन्त का कारण अमानती नोट ब्याज प्राप्त कर्ताओं द्वारा अपने भाग का संराशिकरण कर लिये जाने से मूलधन अर्जित धनराशि घटा कर भारतीय रिजर्व बैंक पब्लिक डेट आफिस कानपुर भुगतानादेश प्रतिमास इस कार्यालय को रू० 24936.00 प्रतिमास भेज रहा है।

अमानती ब्याज का विवरण दिन प्रतिदिन उनके भागीदारों को करने का कार्य तथा जो भागीदार अपना ब्याज नहीं प्राप्त करते हैं उनके अवशेष ब्याज का रख रखाव एक वर्ष से अधिक परन्तु छ: वर्ष से कम समय तक ब्याज न प्राप्त करने पर यदि कोई ब्याज प्राप्तकर्ता अपना ब्याज प्राप्त करने हेतु दावा इस कार्यालय को प्रस्तुत करता है तो आवश्यक नागरिकता का पुष्टि वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के माध्यम से भुगतान किया जाना निदेशक, अल्पसंख्यक कल्याण उत्तर प्रदेश के अनुमति से सुनिश्चित किया जाता है तथा छ: वर्ष से अधिक वाले मामलों में शासन के अनुमति से भुगतान किया जाता है।
वर्तमान समय में कुल अमानती नोट ब्याजधारकों की संख्या लगभग 561 है।

  1. वसीका/अमानती नोट प्राप्तकर्ता द्वारा दिये गये प्राधिकार पत्र को प्राप्त कर उचित कार्यवाही करना।
    प्रत्येक माह की 1 तारीख से 20 तारीख तक वसीका/अमानती नोट प्राप्तकर्ता द्वारा प्राधिकार पत्र कार्यालय में प्रस्तुत करने पर नियमानुसार उनके भुगतान सम्बन्धी उचित कार्यवाही सुनिश्चित की जाती है।

  2. वसीका/ अमानती नोट प्राप्तकर्ता के मृत्योपरान्त दावे का निस्तारण उत्तराधिकारियों के मध्य नियमानुसार किया जाता है।
    यदि किसी वसीकादार अथवा भागीदार सूदनोट अमानती की मृत्यु हो जाती है तो वसीका न्यायालय में उनके वारिसों द्वारा प्रार्थन पत्र,  महजर नामा, इकरार नामा, मृत्यु का मृत्यु प्रमाण पत्र व पेआर्डर सहित उत्तराधिकारी हेतु दावा प्रस्तुत किया जाता है। साधारणत: वरासतनामों के आधार पर वसीके/सूदनोट अमानती दावों का निस्तारण कर वसीका न्यायालय द्वारा उसके उत्तराधिकारियों के मध्य वितरित कर दिया जाता है और जिन मामलों में वाद विवाद उत्पन्न हो जाता है उनके निस्तारण में समय लगता है। इस कार्यालय द्वारा कचेहरी कार्यवाही अमल में लायी जाती है इस लिये वसीका कार्यालय पहले वसीका कचेहरी के नाम से प्रसिद्ध था क्योंकि यहाँ वाद विवाद के मामलों में वसीका कार्यालय स्वयं कचेहरी की कार्यवाही तिथियां आदि सुनिश्चित करते हुए समय-समय पर पक्ष विपक्ष तथा उनके द्वारा प्रस्तुत साक्ष्य एवं शपथ पूर्वक ब्यान अंकित करता है जिस पर अन्‍त में वसीकाधिकारी निदेशक अल्पसंख्यक कल्याण को अपनी आख्या वसीका मैनवल शिया मुसलमानों के नियमानुसार जो वास्तव में हकदार होते हैं के पक्ष में प्रस्तुत करते हैं और निदेशक अल्पसंख्यक कल्याण उत्तर प्रदेश की अनुमति के उपरान्त वास्तविक हकदार के पक्ष में वसीका/ सूदनोट अमानती वितरित कर दिया जाता है।

  3. 11 प्रकार के राजनैतिक पेंशन :-
    राजनैतिक पेंशन निम्नलिखित है:-

  1. अवध के भूतपूर्व शासकों के परिवार के सदस्यों से सम्बन्धित पेंशन।

  2. नवाब वाजिद अली शाह की पुत्रियों से सम्बन्धित पेंशन।

  3. दिल्ली के भूतपूर्व शासकों की शाही पेंशन।

  4. मुजतहित परिवार के लोगों से सम्बन्धित पेंशन।

  5. तफज्जुल हुसैन खाँ परिवार की पेंशन।

  6. सफवी परिवार की राजनैतिक पेंशन।

  7. रमजान आली खाँ के परिवार की राजनैतिक पेंशन।

  8. मुख्तारूद्दौला परिवार राजनैतिक पेंशन।

  9. इम्तियाज राजनैतिक पेंशन

  10. रोहिला परिवार की राजनैतिक पेंशन।

  11. सेहतुद्दौला परिवार की राजनैतिक पेंशन।

पहले यह राजनैतिक पेंशने वसीका कार्यालय लखनऊ द्वारा वितरित की जाती थी परन्तु यह भारत सरकार द्वारा जीवनकालीन घोषित कर दी जाने के कारण इनका भुगतान कोषाकार से होता है परन्तु राजनैतिक पेंशन प्राप्तकर्ता के मृत्योपरान्त अवशेष धनराशि सम्बन्धी भुगतान वसीका कार्यालय लखनऊ द्वारा निर्गत किया जाता है तथा निदेशक, अल्पसंख्यक कल्याण उत्तर प्रदेश के आदेश प्राप्त कर महालेखाकार उत्तर प्रदेश इलाहाबाद को नया पी० पी० ओ० जारी तथा कोषागार को भुगतान करने हेतु आख्या प्रस्तुत की जाती है।

  1. काला इमामबाड़ा एवं मकबरा मिर्जा अली खाँ का प्रबंधन:-
    वसीका कार्यालय द्वारा सालारजंग मकबरा (काला इमामबाड़ा) व मकबरा मिर्जा अली खाँ आदि भवनों की देख रेख इस कार्यालय द्वारा निदेशक, अल्पसंख्यक कल्याण के आदेशानुसार सुनिश्चित की जाती है उक्त दोनो नवाब बहू बेगम साहिबा के सगे भाई थे। इन दोनो भवनों की देख रेख वसीका के रूप में निश्चित धनराशि से की जाती है जिसका विवरण निम्नवत् है:-

    क्र०सं० पी०पी०ओ०सं० धनराशि उद्देश्य
    1. 906 108-75 सालारजंग का मकबरा लखनऊ में रू० 36.25 प्रतिमास की दर से चौकीदारों को भुगतान किया जाना
    2. 907 41-67 सालारजंग के मकबरे की मरम्मत एवं संरक्षण पर व्यय किया जाना
    3. 5472 8-33 मोहरर्म हेतु वार्षिक व्यय
    4. 2163 83-58 एक दरोगा व अन्य लोगो के वेतन तथा मजलिस आदि पर व्यय हेतु
    5. 6363 30-00 मिर्जा अली खाँ के मकबरे की मरम्मत आदि पर व्यय हेतु
    6. 2094 122-51 मकबरा के चौकीदार पर व्यय हेतु

    उपरोक्तानुसार मकबरा व इमामबाड़ा तथा मस्जिद तथा उससे संलग्न एक बड़ा भू भाग भी है जिसमें कुछ स्थान पर खानदान के कुल लोगों की कबरे स्थित हैं और खाली भू भाग पर फूल पत्ती आदि लगाई जाती थी। पूर्व निश्चित व्यय हेतु उपलब्ध धनराशि में कमी का अनुभव करते हुए तत्कालीन विभागाध्यक्ष आयुक्त लखनऊ मण्डल के निरक्षण एवं अनुमति के उपरान्त किनारे किनारे भूमि तथा मकबरे के कमरे आदि का किराये पर आवंटित कर दिया गया हजस से रू० 7000.00 की अतिरिक्त वार्षिक आय प्राप्त होने लगी जिससे मकबरा एवं एवं इमामबाड़ा पर होने वाले समस्त व्यय जैसे चौकीदारों का वेतन मोहरर्म व्यय बकरीद में कुर्बानी आदि के व्ययों में आवश्यकतानुसार बढ़ोत्री कर व्यय किया जा रहा है इस प्रकार काला इमामबाड़ा का कार्य वसीका कार्यालय द्वारा कार्य सुनिश्चित किया जाता है काला इमामबाड़ा से सम्बन्धित रख रखाव हेतु छ: प्रमुख रजिस्टर/  फाईल जिनमें भूमि आवंटन, मोहरर्म व्यय, बकरीद पर व्यय, मरम्मत एवं पुताई पर व्यय आदि की फाईल प्रमुख है।

  2. छात्रवृत्ति
    वसीका कार्यालय आर्थिक रूप से कमजोर वसीकादारों के पुत्र / पुत्रियों को वार्षिक छात्रवृत्ति शिक्षा निदेशालय उत्तर प्रदेश इलाहाबाद से प्राप्त होने पर वितरित करता है जिसका रख रखाव वसीका कार्यालय द्वारा सुनिश्चित किया जाता है।

  3. वसीका कार्यालय लखनऊ के अन्तर्गत सृजित पदों का विवरण वेतनमान सहित

    क्रम सं० पदनाम स्वीकृति पद वेतन
    1. वसीकाधिकारी 01 300 नियत
    2. कार्यालय अधीक्षक 01 5000-150-8000
    3. रिकार्ड कीपर 01 4500-125-7000
    4. सहायक लेखाकार 01 .......तदैव..........
    5. स्याहा नवीस 01 4000-100-6000
    6. लेखालिपिक 01 .......तदैव..........
    7. कनिष्ठ लेखा लिपिक 01 3050-75-3950-80-4590
    8. कोषाध्यक्ष 01 315 नियत
    9. दफतरी 01 2610-3540
    10. चतुर्थ श्रेणी 06 2550-3200
    11. चतुर्थ श्रेणी ( अधिसंख्य के आधार पर) 02 .......तदैव..........

    (बी) (ii) वसीका कार्यालय लखनऊ में अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा कार्य वसीका मैनवल में दिये गये निर्देशों के अन्तर्गत किया जाता है वर्तमान समय में निदेशक अल्पसंख्यक कल्याण उत्तर प्रदेश लखनऊ इस कार्याल्य के नियंत्रक अधिकारी है।
    (बी) (iii) वसीका कार्यालय लखनऊ में विभागाध्यक्ष निदेशक अल्पसंख्यक कल्याण उत्तर प्रदेश लखनऊ के आदेशों के अन्तर्गत कार्य सम्पादित किया जाता है।
    (बी) (iv) वसीका कार्यालय लखनऊ में कार्यों का सम्पादन वसीका मैनवल में दिये गये निर्देशों के अन्तर्गत किया जाता है।
    (बी) (v) वसीका कार्यालय लखनऊ में वसीका मैनवल तथा समय समय पर शासन द्वारा निर्देशों व नियमों के अन्तर्गत अधिकारी/ कर्मचारी अपने कार्यों का सम्पादन करते हैं।
    (बी) (vi) वसीका कार्यालय में अवध के नवाबों के वंशजों से सम्बन्धित रिकार्ड व कार्यालय में कार्यरत कर्मचारियों का सम्पूर्ण रिकार्ड तथा काला इमामबाड़ा मिर्जा अली खाँ का सम्पूर्ण रख रखाओ भी इसी कार्यालय द्वारा किया जाता है।
    (बी) (vii) कार्यालय से सम्बन्धित नहीं है।
    (बी) (viii) वसीका कार्यालय में कोई बोर्ड एवं कमेटी गठित नहीं है।
    (बी) (ix) वसीका कार्यालय के अधिकारियों / कर्मचारियों का विवरण निम्नवत् है:-
     

    क्रमांक नाम अधिकारी / कर्मचारी पदनाम
    1. डा० राजेन्द्र यादव वसीकाधिकारी
    2. श्री भोला नाथ श्रीवास्तव कार्यवाहक कार्यालय अधीक्षक/ रिकार्ड कीपर
    3. श्री मूल चन्द्र सहायक लेखाकार
    4. श्री जितेन्द्र बंसल स्याहा नवीस
    5. श्री रामकुमार कश्यप लेखालिपिक
    6. श्री सिब्तैन मोहम्मद जैदी कनि० लेखा लिपिक
    7. श्री मोती लाल दफतरी
    8. श्री अली अहमद चपरासी
    9. श्री ओम प्रकाश चपरासी
    10. श्री मनोज कुमार चपरासी
    11. श्री कृष्ण कुमार चपरासी
    12. श्री राजेन्द्र कुमार चपरासी
    13. श्रीमती सुमाना महलदार प्रथम
    14. कु० अफरोज जहाँ महलदार द्वितीय

    (बी) (x) वसीका कार्यालय के कर्मचारियों एवं अधिकारियों का मासिक वेतन निम्नवत् है:-
     

    क्रमांक नाम पदनाम वेतनमान सहित नियुक्ति तिथि स्थाई पता फोन नम्बर
    1. डा० राजेन्द्र यादव वसीकाधिकारी      
    2. श्री भोला नाथ श्रीवास्तव कार्यालय अधीक्षक
    5000-150-8000
    6-4-1974 मिर्जा मण्डी चौक लखनऊ 2256196
    3. श्री मूल चन्द्र सहायक लेखाकार
    4500-125-7000
    16-4-1980 ई. 4941 राजाजीपूरम लखनऊ 2414032
    4. श्री जितेन्द्र बंसल स्याहा नवीस
    4000-100-6000
    1-12-1989 554/219/2 छोटा बरहा, अर्जुन नगर, आलमबाग, लखनऊ 9415093489
    5. श्री रामकुमार कश्यप लेखालिपिक
    4000-100-6000
    23-8-1980 529/80 रहीम नगर
    लखनऊ
    2372013
    6. श्री सिब्तैन मोहम्मद जैदी कनि० लेखा लिपिक
    4000-100-6000
    5-7-1991 वेल वाला टीला मुफतीगंज, लखनऊ 9415561596
    7. श्री मोती लाल दफतरी
    2650-4000
    15-4-1971 गली चरक वाला कूँआ, हुसैनाबाद लखनउ।  
    8. श्री अली अहमद चपरासी
    2750-4400
    23-2-1980 निकट पानी की टंकी हुसैनाबाद लखनऊ  
    9. श्री ओम प्रकाश चपरासी
    2750-4400
    6-8-1980 410/34 नई बाड़ा लखनऊ  
    10. श्री मनोज कुमार चपरासी
    2550-3200
    24-10-1991 ललई खेड़ा डाक खाना बिजनौर, जनपद लखनऊ  
    11. श्री कृष्ण कुमार चपरासी
    2550-3200
    7-6-2003 482 ख/28 बालमीकपुरी इरादत नगर, डालीगंज, लखनऊ  
    12. श्री राजेन्द्र कुमार चपरासी
    2550-3200
    11-6-2003 अधिकारी विश्रामगृह गौतम पल्ली लखनऊ  
    13. श्रीमती सुमाना महलदार प्रथम
    2610-3540
    1-3-1993 233 इमामबाड़ा दरोगा मीर वाजिद अली गोलागंज, लखनऊ  
    14. कु० अफरोज जहाँ महलदार द्वितीय
    2610-3540
    1-7-1993 हैदरी मस्जिद झाकड़ बाग, लखनऊ  

    (बी) (xi) वसीका कार्यालय लखनऊ को अल्पसंख्यक कल्याण एवं वक्फ अनुभाग-2 से लेखा शीर्षक 2075 अधिष्ठान के अन्तर्गत 2075 अवध वसीका पेंशन के अन्तर्गत, 2049- विशेष ऋणों के अन्तर्गत प्रति वर्ष बजट प्राप्त होता है उक्त के अतिरिक्त अमानती नोट ब्याज धारकों को सेफ कस्टडी में रखी‍ धनराशि रू० 2602000.00 पर बैकर के माध्यम से प्राप्त अर्जित ब्याज प्रतिमास भुगतान किया जाता है नोट वर्तमान समय में उक्त धनराशि की पुर्ननिवेश हेतु कार्यवाही की जा रही है।
    (बी) (xii) कार्यालय से सम्बन्धित नही है।
    (बी) (xiii) कार्यालय से सम्बन्धित नही है।
    (बी) (xiv) वर्तमान समय में इस कार्याल्य में इलेक्ट्रानिक व्यवस्था उपलब्ध नहीं है।
    (बी) (xv) इस कार्यालय में कोई पुस्तकालय एवं अध्यन कक्ष उपलब्ध नहीं है।
    (बी) (xvi) वसीका कार्यालय लखनऊ में जनसूचना अधिकारी, सहायक जनसूचना अधिकारी एवं अपीलीय अधिकारी का विवरण निम्नवत् है।
     

    क्रमांक नाम अधिकारी / कर्मचारी पदनाम नामित पद
    1. श्री के० के० चौधरी निदेशक अल्पसंख्यक कल्याण अपीलीय अधिकारी
    2. श्री राजेन्द्र यादव वसीकाधिकारी जन सूचना अधिकारी
    3. श्री भोला नाथ श्रीवास्तव कार्यालय अधीक्षक सहायक जन सूचना अधिकारी

    (बी) (xvii) शून्य

Back

 

कापीराइट 2007 | अल्पसंख्यक कल्याण एवं वक्फ़ विभाग , उत्‍तर प्रदेश सरकार, भारत | 1024x768 पर सर्वोत्तम दृष्‍टि